- Advertisement -

प्रयागराज में जूनियर डाॅक्टरों की हड़ताल से नहीं मिला इलाज, डाॅक्टरों से करता रहा मिन्नतें

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

रिपोर्ट : मुलायम सिंह बिसेन

 

वेब डेस्क, प्रयागराज : यूपी के मिर्जापुर के बथुआ निवासी घनश्याम शुक्ला सोमवार की सुबह कैंसर पीड़िता पत्नी रजनी शुक्ला को लेकर प्रयागराज के स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल पहुंचा। पत्नी की हालत गंभीर थी। चलने में असमर्थ पत्नी को वह कंधे पर लादकर एसआरएन अस्पताल में प्रवेश करता है तो पता चला कि जूनियर डाक्टर हड़ताल पर हैं, और पंजीकरण काउंटर भी बंद है।

Add

ऐसे में घनश्याम कई जूनियर डाॅक्टरों से मिन्नतें करता रहा कि किसी तरह पत्नी को भर्ती कर लिया जाए,लेकिन धरती के भगवान कहे जाने वाले डाक्टर अपने मांगों के आगे कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे। घनश्याम पत्नी को कंधे पर लादकर अस्पताल भर में घूमता रहा। हड़ताल के चलते 2000 हजार से मरीज बिना इलाज कराए लौट गए।

Add

प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू मेडिकल काॅलेज के स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में जूनियर डॉक्टर सोमवार को नीट पीजी 2021 की काउंसिलिंग की प्रक्रिया जल्द पूरा कराने की मांगों के समर्थन में हड़ताल पर हैं। उनके हड़ताल से मरीजों की फजीहत हुई। विभिन्न जनपदों से आए मरीजों को इलाज नहीं मिला। पर्चा काउंटर बंद करा दिया गया ताकि मरीज ओपीडी तक नहीं पहुंच सके।

Add

जूनियर डॉक्टरों के हड़ताल के चलते मरीज व तीमारदारों में आक्रोश दिखा। प्रतापगढ़ के लालगंज अजहरा से यहां इलाज कराने आईं क्षवि देवी कहती हैं कि यह हड़ताल पर करें लेकिन मरीजों का इलाज प्रभावित न हो। ट्रांसपोर्ट नगर की रहने वाली मंदिला मिश्रा त्वचा रोग की ओपीडी में दिखाने आई थीं लेकिन पर्चा ही नहीं बना तो बिना दिखाए ही लौट गईं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...