- Advertisement -

प्रतापगढ़ : भाजपा छोड़ राजा भैया के साथ हुए सर्वेश कपुरिहा

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

रिपोर्ट : मुलायम सिंह बिसेन

 

प्रदेश आजतक : भारतीय जनता पार्टी की सवर्ण विरोधी नीतियों और मूल भाजपा कार्यकर्ताओं की अनदेखी से नाराज़ युवा नेता सर्वेश शंकर कपुरिहा ने कुँवर रघुराज प्रताप सिंह उर्फ ‘राजा भैया’ जनसत्ता दल लोकतांत्रिक का दामन थाम लिया. सर्वेश शंकर कपुरिहा भाजपा से ब्राह्मण चेहरे के रूप में मऊ मानिकपुर से उम्मीदवार के रूप में टिकट की दौड़ में भी थे.

90 के दशक में भाजपा उत्तर प्रदेश की राजनीति में बाहुबली ब्राह्मण नेता के रूप में अलग पहचान रखने वाले कृष्ण मुरारी कपुरिहा के पुत्र सर्वेश के अनुसार-पिता जी के समय से ही पार्टी से जुड़कर संगठन द्वारा दिये गए कार्यो का ईमानदारी से और निःस्वार्थ रूप से निर्वहन किया लेकिन वर्तमान में जिस तरह से पार्टी के मूल कार्यकर्ता उपेक्षित हो रहे हैं.

दूसरे दल वालों को तरजीह दी जा रही है. ऐसे में पार्टी का मोह छोड़ना जरूरी हो गया है. भारतीय जनता पार्टी पर हमलावर होते हुए सर्वेश कपुरिहा ने यह भी कहा कि -सवर्णों की अनदेखी व तुष्टीकरण की राजनीति सेभाजपा को जो नुकसान होने वाला है उसकी भरपाई सम्भव न होगी. आडवाणी, जोशी सहित कलराज जैसे दिग्गजों के टिकट काट दिए जा रहे हैं. सवर्ण आयोग के गठन की माँग करने पर भैरो मिश्रा जी का भी टिकट काट दिया गया. वहीं राजनाथ सिंह जी भी हाशिये पर हैं.

जो भाजपा की सवर्ण विरोधी मानसिकता के परिचायक बन गए. जबकि भाजपा को सींचने का इन्हीं के द्वारा सम्भव हो सका. सवर्णों के दमन की ये नीतियां भाजपा को रास आने वाली नहीं हैं. हजारों समर्थकों के साथ पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुंवर रघुराज प्रताप सिंह ने पार्टी की सदस्यता दिलाई और हर संघर्ष में साथ रहने का आश्वासन भी दिया.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...